• वेद माथुर 

अहमद पटेल के निधन से उपजी चिंताओं व और उससे पूर्व काँग्रेस केसरी कुछ नेताओं द्वारा नेतृत्व को लेकर जताई जा रही चिंताओं के बीच मुझे संजय गांधी याद आ रहे हैं। संजय गांधी को इतिहास किसी भी रूप में याद करे लेकिन मैं उनकी कुछ अच्छाइयों का प्रशंसक हूं। संजय दृढ़ निश्चयी थे और जो ठान लेते थे उसे करवाने की क्षमता रखते थे। मेरी निगाह में संजय ने आपातकाल में अपना 5 सूत्री कार्यक्रम चलाया था,वह अत्यंत रचनात्मक, वैज्ञानिक और उपयोगी था। इसमें शिक्षा, परिवार नियोजन, वृक्षारोपण, कच्ची बस्ती उन्मूलन,जातिवाद से निपटारा और दहेज़ प्रथा को खत्म करना शामिल था।

देश हित के लिए संजय का 5 सूत्री प्रोग्राम श्रेष्ठ था, लेकिन इसी कार्यक्रम में शामिल परिवार नियोजन के लिए लोगों की ज़बरदस्ती नसबंदी कराना संजय को ही नहीं, पूरी कांग्रेस पार्टी को बहुत महंगा पड़ा। यदि संजय गांधी का देहावसान ना होता और वह दृढ़ता से परिवार नियोजन कार्यक्रम पर काम करते तो आज शायद भारत की तस्वीर बेहतर होती।

जेएनयू में प्रोफ़ेसर रहे पुष्पेश पंत कहते हैं,’कहीं न कहीं एक दिलेरी उस शख़्स में थी और कहीं न कहीं हिंदुस्तान की बेहतरी का सपना भी उनके अंदर था, जिसको कोई अगर आज याद करे तो लोग कहेंगे कि आप गाँधी परिवार के चमचे हैं, चापलूस हैं। लेकिन परिवार नियोजन के बारे में जो सख़्त रवैया आपात काल के दौरान अपनाया गया, अगर वो नहीं अपनाया गया होता तो इस मुल्क ने शायद कभी भी छोटा परिवार, सुखी परिवार की परिकल्पना समझने की कोशिश ही नहीं की होती।’

संजय गांधी की सबसे बड़ी खूबी यह थी कि वे हारी हुई बाजी को पूरी शिद्दत से संघर्ष करके जीतना जानते थे। 1977 में कांग्रेस की और खुद की हार के बावजूद 1980 में कांग्रेस की वापसी में उनकी महत्वपूर्ण भूमिका रही। प्रश्न सिर्फ यह है कि कांग्रेस को आज गुलाम नबी आजाद, कपिल सिब्बल, आनंद शर्मा, अभिषेक मनु सिंघवी जैसे दर्जनों हवाई नेताओं की जरूरत है या एक ऐसे नेता की जो करोड़ों लोगों को कांग्रेस से जोड़कर एक मजबूत विपक्ष और एक मजबूत सरकार दे सके। एक ऐसा मजबूत नेता कांग्रेस को चाहिए जो कांग्रेस शासित राज्यों में कुछ ऐसा अद्भुत और रचनात्मक कार्य करके दिखा सके कि उस काम के नाम पर आमजन कांग्रेस को वोट दें। क्या कांग्रेस को फ्यूज बल्बों के बजाय किसी शानदार सर्च लाइट का डायनामिक नेतृत्व मिलेगा?

(माथुर पूर्व पत्रकार, व्यंग्य लेखक व बैंक के निवृत्त महाप्रबंधक हैं। ) 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here