भोपाल. इंडिया डेटलाइन. मध्यप्रदेश कांग्रेस ने शनिवार को राजधानी में प्रदर्शन किया। प्रदेश भर से आए कार्यकर्ताओं ने पुलिस के डंडे खाए और कुछ घंटों के लिए जेल की हवा। 106 से ज्यादा कार्यकर्ताओं ने गिरफ़्तारी दी और तीन हजार पर एफआईआर दर्ज की गई।  इनमें दिग्विजय सिंह शामिल हैं। कमलनाथ नहीं। 

कांग्रेस ने किसानों के समर्थन में राजभवन के घेराव का ऐलान किया था लेकिन पुलिस ने रोशनपुरा चौराहे पर ही रोक दिया। भीड़ को नियंत्रित करने के लिए पुलिस ने पानी की बौछारें छोड़ीं और लाठियाँ भांजी। युवा कांग्रेस अध्यक्ष विक्रांत भूरिया सहित आधा दर्जन नेता घायल हुए। पुलिस का कहना है कि बैरीकेड्स लाँघने की कोशिश में घायल हुए हैं। 

कांग्रेस के प्रदर्शन में किसान नहीं दिखे लेकिन यह पार्टी में उत्साह बनाए रखने के लिए जरूरी था। यद्यपि राज्य स्तर का आह्वान होने से इसे असरदार होना चाहिए था। प्रदर्शन में कांग्रेस की कमजोरी को उजागर किया।  कार्यकर्ता और नेता लाठीचार्ज से ही खुश थे। जावरा से आए भेरूलाल ने रिपोर्टर से कहा कि ‘अखबारों में तो छा ही जाएँगे।’

मुख्यमंत्री शिवराज सिंह ने कहा कि यह प्रदर्शन नेता प्रतिपक्ष व पार्टी अध्यक्ष बनने की लड़ाई का हिस्सा था। 

 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here